आंवला के फायदे, गुण, लाभ और नुकसान – Amla advantages, qualities, benefits, and Disadvantages

Amla आंवला प्रकृति की ओर से हमें दिया गया एक तोहफा है आंवला या अमालाकी को सबसे अधिक आयुर्वेदिक घटको से पूर्ण माना जाता है। आंवला के फायदे भोजन और दवा दोनों है। जो बहुत गुणकारी है| अमला शब्द खट्टा का उल्लेख करता है, इसे खाने से आँखों की रोशनी बढती है, बालों का झाड़ना बंद होता है| आयुर्वेद की दुनिया में आंवला का एक महत्वपूर्ण स्थान है, जिसे बहुत सी बीमारी को दूर करने के लिए उपयोग किया जाता है| इसका वनस्पति नाम एम्बलोका ऑफिजिनालिस या फ़िलेंथस इम्ब्लिका है। यह जड़ी बूटी एक बहुत ही शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है, उम्र बढ़ने और कैंसर, मधुमेह और हृदय रोग जैसे रोगों को रोकने के लिए एंटीऑक्सिडेंट महत्वपूर्ण हैं।

आंवला के फायदे में इसमें मौजूद तत्व पेट में होने वाली गैस, एसिड की परेशानी दूर करते है, इसके खाने से दिमाग तेज होता है, दिल व फेफड़े मजबूत होते है, स्किन की परेशानी दूर होती है, शरीर से विषेले पदार्थ निकल जाते है, बालों को बढ़ाने अदि मे यह बहुत लाभकारी है| इसके अलावा भी आवला के बहुत से फायदे होते है| आइये जानते है आंवला के फायदे, गुण, लाभ और नुकसान के बारें में-

आंवला के फायदे और उपयोग 

यह कई बीमारियों के लिए उपचार प्रदान करता है और इसलिए इसका व्यापक रूप से आयुर्वेदिक उपचार में उपयोग किया जाता है।

आंवला के फायदे आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए 

आँवला आँखों की दृष्टि (नज़र) में सुधार लाता है एवं आँखों में जलन और खुजली से राहत प्रदान करता है।  शहद के साथ आंवले का रस पीने से दृष्टि में सुधार होता है। अध्ययनों से यह भी पता चला है कि यह अंतर-ओक्यूलर तनाव को कम कर, निकटता और मोतियाबिंद में सुधार करता है।

आंवला के फायदेलंबे घने और मज़बूत बालों के लिए 

आंवला एक प्राकृतिक बाल टॉनिक (Hair Tonic) है और न केवल यह बालों के विकास को बढ़ावा देता है, यह उन्हें झड़ने से भी बचाता है। आंवला कई बाल के टॉनिकों में प्रयोग किया जाता है क्योंकि यह बाल विकास और बाल रंजकता को बढ़ाता है। ताजा आंवला खाने या बालों की जड़ों पर इसका पेस्ट लगाने से बाल विकास और रंग में सुधार होता है।

आंवला के फायदे त्वचा के लिए – Advantages of Amla for Skin 

आंवले के रस में एंटीऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं, जो बढ़ती उम्र का असर आपके चेहरे पर नहीं पड़ने देते हैं। इसलिए नियमित रूप से आंवला जूस पीते रहने से आप लम्बे समय तक जवां दिखाई देते हैं। इसके सेवन से आपकी स्किन चमकदार बनती हैं। प्रतिदिन आंवले के रस में शहद मिला कर पीने से आपका चेहरा चमकदार बनता हैं और चेहरे से झाइयाँ ख़त्म होने लगती हैं।

मधुमेह के लिए आंवला के फायदे – Advantages of Amla for Diabetes 

आवला में क्रोमियम तत्व पाया जाता हैं जो शुगर में लाभकारी होता हैं. आवला इंसुलिन होरमोंस को को सुदृढ़ करता हैं और खून में शुगर की मात्रा को नियंत्रित करता हैं. क्रोमियम बीटा ब्लॉकर के प्रभाव को कम करता हैं, जो की ह्रदय के लिए अच्छा होता हैं ह्रदय को स्वस्थ बनाता हैं.आवला खराब कोलेस्ट्रोल को ख़त्म कर अच्छे कोलेस्ट्रोल को बनाने में मदद करता हैं. आवला के रस में शहद मिलाकर लेने से शुगर के मरीज को बहुत फायदा होता हैं.

मेटाबोलिक गतिविधि और पाचन क्रिया में आंवला के फायदे – Advantages of Amla in Digestion 

आंवला मेटाबोलिक क्रियाशीलता को बढाता हैं. मेटाबोलिज्म क्रियाशीलता से हमारा शरीर स्वस्थ और सुखी होता हैं. आवला भोजन को पचाने में बहुत मददगार साबित होता हैं खाने में अगर प्रतिदिन आवले की चटनी, मुरब्बा ,अचार ,रस, चूर्ण या चवनप्रास कैसे भी रोजमरा की जिन्दगी में शामिल करना चाहिए. इससे कब्ज की शिकायत दूर होती हैं पेट हल्का रहता हैं.रक्त की मात्रा में बढ़ोतरी होती हैं. खट्टे ढकार आना ,गैस का बनाना ,भोजन का न पचना , इत्यादि में आवला के ५  ग्राम पाउडर को पानी में भिगों कर सुबह शाम ले. इससे अम्लीय पित्त के बुरे प्रभाव से छुटकारा मिलता हैं.आंवले में प्रोटीन भी होते हैं। सेलुलर विकास, मांसपेशियों के विकास, और अन्य चयापचय गतिविधियों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए प्रोटीन आवश्यक है।

आंवला के फायदे गुर्दे के लिए – Benefits of Amla for kidney 

आंवला थोड़ा मूत्रवर्धक भी है, जो आवृत्ति और पेशाब की मात्रा बढ़ाता है। मूत्रवर्धक पदार्थ हमारे गुर्दे को स्वस्थ रखने, मूत्र संक्रमण और गर्भाशय में संक्रमण को रोकने के लिए आवश्यक होता है।

आंवला के फायदे बढ़ाये यौन शक्ति – benefits of amla to Increasing sexual power 

इसमें विटामिन सी होता हैं जो सेक्स पॉवर को बढ़ाने में सहायता करता हैं। इसलिए आंवला जूस पीने से सेक्स लाइफ और भी अच्छी बन जाती हैं। अगर आप अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाना चाहते हैं तो आंवले के रस का सेवन जरूर करे।

मासिक धर्म में होने वाले दर्द के लिए आंवला के फायदे – amla for Menstrual cycle pain 

हर महीने महिलाओं को होने वाली परेशानी में होने वाले दर्द से आमला आराम दे सकता है| आमला में मौजूद मिनिरल्स व विटामिन दोनों मिल कर इस परेशानी को दूर करते है और महिलाओ को होने वाली बैचैनी से आराम देते है|  आंवले में मौजूद कुछ खनिज और विटामिन सामूहिक रूप से मासिक धर्म के ऐंठन के उपचार में बहुत उपयोगी होते हैं।

संक्रमण से बचने के लिए आंवला के फायदे – Advantages of Amla to avoid infection 

इसके जीवाणुरोधी और कसैले गुणों के कारण, आंवले शरीर के संक्रमण के खिलाफ रक्षा करते हैं और शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में सुधार करते हैं। आंवले में मौजूद विटामिन सी शरीर में सफेद रक्त कोशिका की संख्या में वृद्धि करते हैं।

ह्रदय की रक्षा के लिए आंवला – Amla to protect the heart 

दिल की मसल की रक्षा आमला करता है, जिससे खून का संचालन पुरे शरीर में सही ढंग से होता है| आमला का सेवन करने से कोलेस्ट्रोल भी कम होता है, यह रक्तचाप को नियंत्रण में रखता है और हृदय रोग एवं दिल के दौरे से बचाव करता है।

आंवला वजन कम करने में मदद करता हैं – Amla helps in losing weight 

आंवले की मदद से आप बहुत ही कम समय में अपना वजन कम कर सकती है। इतनी ही नहीं यह आपकी पाचन शक्ति को बढ़ाने में भी मदद करता है। अगर आपका भी वजन जरुरत से ज्यादा है तो उसे कम करने के लिए आप कुछ दिनो तक सुबह खाली पेट आंवले के जूस या आंवले को खा कर अपने वजन को कम कर सकती है।

आंवला के नुकसान – Amla Side Effects 

अभी तक के अध्ययनों में किसी प्रकार के जहरीले या कठोर, नकारात्मक प्रभावों की रिपोर्ट नहीं मिली है, लेकिन आंवले के उपयोग से संबंधित कुछ हल्के, प्रतिकूल प्रतिक्रियाएं हैं। जिससे आपको सतर्क रहने की जरुरत है

  • इसकी शीतलता की वजह से यह सर्दी और खांसी पर बुरा असर हो सकता है। इसके इस दुष्प्रभाव को समाप्त करने के लिए इसका सेवन काली मिर्च या शहद के साथ करें।
  • अगर आप इसका अधिक मात्रा में सेवन करते है तो इससे आपको कब्ज की समस्या बढ़ सकती है इस से बचने के लिए आप इसका सेवन पानी के साथ करें।
  • आँवला मधुमेह (Diabetes) की दवा के साथ हस्तक्षेप कर सकता है। इसका आचार रक्तचाप के लिए हानिकारक हो सकता है। इसलिए हृदयी रोगी को इसका सेवन चिकित्सक की सलाह से ही करना चाहिए।
  • आँवला त्वचा की नमी को भी कम कर सकता हैं। इसीलिए आँवला खाने के बाद ज़्यादा मात्रा में पानी पीना जरुरी होता है।
  • यदि इसका सेवन अधिक मात्रा में किया जाए तो यह पेशाब में जलन का भी कारण बन सकता है।
  • इसमें उच्च फाइबर (fiber) सामग्री पाई जाती है जिसकी वजह से डायरिया हो सकता है। इसीलिए इसके सेवन के साथ साथ पानी का भी सेवन करना ज़रूरी है।
  • यदि इसका सेवन लंबे समय तक किया जाए या फिर ज़्यादा मात्रा में किया जाए तो यह पथरी को भी जन्म दे सकता है।
  • जिन लोगों को आंवले से एलर्जी हो, उन्हे कुछ स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों जैसे दस्त, पेट में दर्द, पेट में ऐंठन, मतली, उल्टी, लाली और अपने मुँह के आसपास सूजन, चेहरे पर लालच, त्वचा और चेहरे पर पित्ती, श्वास बाधित, सिरदर्द, चक्कर आना, और हल्केपन का अनुभव हो सकता है।

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

Labtry.com
Login/Register access is temporary disabled
Compare items
  • Total (0)
Compare